धातु गिरना या वीर्य टपकना दोनों का रामबाण इलाज अखरोट से

0

धातु गिरना युवाओं में एक आम समस्या बनी हुयी है, कारण है अश्लील साहित्य पढना, अश्लील फ़िल्में देखना, मन में सदैव अश्लील विचारों का चलना, ये प्रयोग उन रोगियों के लिए अत्यंत फायदेमंद हैं जिनको धातु गिरने की समस्या होती हैं, या जिनका पेशाब में वीर्य निकल जाता है. ऐसे युवाओं के चेहरे पर ओज तेज़ नष्ट हो जाता है. आज हम इसी बीमारी का एक रामबाण इलाज बताने जा रहें है. आइये जाने.

बनाने की विधि. Dhatu girne ka ilaj

जैसा के आपने ऊपर कारण पढ़ें तो इन कारणों को दूर करके आप ये प्रयोग शुरू करें. इस प्रयोग के लिए आपको चाहिए अखरोट का छिलका, देसी खांड (ये भूरे रंग की आती है) या गुड की शक्कर या मिश्री मिला सकते हैं. सबसे पहले आप अखरोट के छिल्को को जला कर इसकी भस्म कर लीजिये, इस भस्म में बराबर की मात्रा में मिश्री पीस कर मिला लीजिये. बस दवा तैयार है.

सेवन की विधि.

इस दवा को सेवन करना बहुत आसान है. इसको सुबह शौच जाने के बाद और नाश्ते के एक घंटे पहले 10 ग्राम अर्थात दो चम्मच पानी के साथ और रात को सोते समय खाने खाने के कम से कम एक घंटे के बाद पानी के साथ या दूध के साथ लीजिये. इस प्रयोग को 10 दिन लगातार करने से धातुस्त्राव और वीर्यस्त्राव दोनों में बहुत लाभ होता है.

अभी आपको बताते हैं के ऐसा अखरोट में क्या पाया जाता है जिस से ये इन रोगों में फयदेमंद है.

अखरोट में Stigmasterol नाम से प्राकृतिक स्टेरॉयड (Phyto Sterol) पाया जाता है. जो के Boldenone का Precursor है. Boldenone एक एनाबोलिक स्टेरॉयड है जिसको अक्सर Athlete इस्तेमाल करते हैं अपनी कार्यक्षमता बढ़ाने के लिए. ये Testosterone  का एक रूप है जो के पुरुषों के जननांगों के विकास और उनके Maintenance के लिए अति उपयोगी है. इसी कारण से ये इन रोगों में बेहद प्रभावशाली है.

Share.

About Author

Leave A Reply