अब एक्‍जिमा की छुट्टी करनी है तो ऐसे करें नारियल तेल का प्रयोग

0

मौसम बदलने के कारण कई बार त्वचा में भी कई तरह के संक्रमण होने लगते हैं। इनमें से सबसे प्रमुख है एक्जिमा, यह एक तरह का स्किन इन्फेक्शन है जिसमें उस जगह पर तेज खुजली होती रहती है और आगे चलकर घाव भी हो जाता है।

अमेरिकन एकेडमी ऑफ़ डर्मेटोलॉजी के अनुसार जिन लोगों की इम्युनिटी पॉवर कमजोर होती है वे बहुत जल्दी एक्जिमा (eczema) संक्रमण के शिकार हो जाते हैं। हालांकि इसके अलावा भी एक्जिमा होने के कई और कारण है जैसे कि धूल और गंदगी भरे इलाके में जाने से या केमिकल युक्त साबुन के इस्तेमाल से भी यह बहुत जल्दी फैलता है।

कई मामलों में एक्जिमा पूरी तरह ठीक नहीं हो पाता है लेकिन इसके असर को कम किया जा सकता है। कई लोग इसके इलाज में स्टेरॉयड और तरह तरह की दवाइयों का सेवन करते हैं जबकि आप इसे घरेलू उपचारों से भी ठीक कर सकते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको बता रहे हैं कि कैसे आप नारियल तेल के इस्तेमाल से एक्जिमा को ठीक कर सकते हैं।

कैसे करें नारियल तेल का इस्तेमाल : नारियल तेल को आप माश्चराइजर, कुकिंग ऑयल, ऑइंटमेंट और क्रीम के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। हम यहां आपको इसके इस्तेमाल का स्टेप बाय स्टेप तरीका बता रहे हैं। आप अपने हिसाब से घर पर इस्तेमाल करें।

नोट : अगर आपको नारियल तेल से एलर्जी है तो पहले आप इससे जुड़ा पैच टेस्ट ज़रूर कर लें उसके बाद ही इन उपायों को अपनाएं।

1 – माश्चराइजर की तरह इस्तेमाल :

शरीर के जिस हिस्से पर आपको एक्जिमा की समस्या हुई है वहां पर सीधे नारियल तेल का प्रयोग कर सकते हैं। नारियल तेल उस हिस्से की नमी को बरकरार रखता है और उसे सूखने से बचाता है।

इसके लिए आप अपने हाथों, पैरों या जिस हिस्से पर भी यह इन्फेक्शन हुआ है वहां इस तेल की हल्की मालिश करें। इससे स्किन पूरी तरह इस तेल को सोख लेती है। बेहतरीन परिणाम के लिए रोजाना नहाने के बाद और रात में सोने से पहले इसे ज़रूर लगायें।

2 – नारियल तेल से स्नान :

पीठ और हिप्स पर होने वाले एक्जिमा से राहत पाने के लिए आप इस तेल से स्नान कर सकते हैं। यह खुजली और जलन को काफी हद तक कम कर देता है। इसके लिए बाथटब में गुनगुना पानी भरें और उसमें एक कप नारियल तेल डालकर अच्छे से मिलाएं। अब उसमें अगले एक घंटे तक लेटे रहें और स्नान करें। उसके बाद सूखे तौलिये से शरीर पोछ लें। इस प्रक्रिया को रोजाना अपनाएं।

दूसरा तरीका : आप इसकी बजाय अपने बाथटब में आधा कप ओटमील और दो चम्मच नारियल तेल डालकर भी नहा सकते हैं। ये भी एक्जिमा के असर को कम करने में मददगार है।

3 – नारियल तेल और विटामिन इ :

ये तरीका छोटे बच्चों के लिए है क्योंकि उनकी स्किन बहुत नाजुक होती है। कई शोधों में इस बात कि पुष्टि हुई कि छोटे बच्चों में होने वाले एक्जिमा के इलाज में यह मिश्रण काफी असरदार है।

इसके लिए एक जार में 6 चम्मच नारियल तेल, दो चम्मच रोजमेरी ऑयल और दो चम्मच विटामिन इ ऑयल डालें। अब इन सभी सामग्री को अच्छे से मिला लें और जार को अच्छे से बंद कर लें। दिन में दो बार बच्चे के शरीर पर इन्फेक्शन वाली जगह पर इस लोशन को लगायें।

4 – नारियल तेल और लैवेंडर ऑयल :

कई अरोमा थेरेपी में इस मिश्रण का उपयोग किया जाता है। ऐसा दावा किया जाता है कि यह मिश्रण एक्जिमा सहित कई तरह के त्वचा रोगों में राहत पहुंचाने में काफी असरदार है।

इसके लिए एक चम्मच नारियल तेल में 2 बूँद लैवेंडर ऑयल डालें और शरीर में इन्फेक्शन वाली जगह पर लगाएं और उसे सूखने दें। रोजाना दिन में कम से कम दो बार इस मिश्रण को एक्जिमा वाली जगह पर लगायें।

5 – ऑइंटमेंट :

कई शोधों में इस बात की पुष्टि हुई है कि शी बटर (Shea butter) के इस्तेमाल से एक्जिमा के लक्षणों में आराम मिलता है। शी बटर माश्चराइजर की तरह काम करता है और त्वचा की नमी को बरकरार रखता है।

इसके लिए नारियल तेल कि कुछ बूँदें लें और उसमें एक चम्मच अफ्रीकन शी बटर मिलाएं। अब इस मिश्रण को इन्फेक्शन वाली जगह पर सीधे लगायें। बेहतरीन परिणाम के लिए रोजाना दिन में दो बार इसका इस्तेमाल करें। यह मिश्रण खुजली से आराम दिलाने में बहुत मददगार है।

6 – कोकोनट ऑयल बॉडी स्क्रब :

इस स्क्रब के इस्तेमाल से डेड स्किन आसानी से हट जाती हैं और नारियल तेल स्किन में मौजूद नेचुरल ऑयल को बनने में मदद करती है।

इसके लिए एक चम्मच कोकोनट ऑयल में दो चम्मच चीनी मिलाएं और इस मिश्रण से इन्फेक्शन वाली जगह पर स्क्रब करें। उसके बाद गुनगुने पानी से धो लें। बेहतरीन परिणाम के लिए हफ्ते में तीन बार इस स्क्रब का इस्तेमाल करें। आप शुगर की जगह ब्राउन शुगर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

7 – नारियल तेल और बटर :

इसके लिए एक बॉयलर लें और उसमें 2 चम्मच मोम और 4 चम्मच जोज़ोबा ऑयल डालकर पिघलाएं। जब ये पूरी तरह पिघल जाये तो इसमें 6 चम्मच नारियल तेल डालें और तब तक गर्म करें जब तक ये पिघलकर मिश्रण में पूरी तरह घुल ना जाए। अब आंच धीमी करके इसमें 2 चम्मच शी बटर डालकर उसे गलने दें।

अब आंच बंद करके मिश्रण को नीचे उतार लें और अब इसे ठंडा होने दें। जब यह ठंडा हो जाए तो मिक्सर में डालकर अच्छे से पीस लें जिससे ये बिल्कुल झागदार हो जाए। अब इस मिश्रण को एक बड़े जार में रख दें और उसमें 2 बूँद लैवेंडर ऑयल मिला दें। इस मिश्रण को एक्जिमा वाली जगह पर लगायें और उसे सूखने दें। बेहतरीन परिणाम के लिए रोजाना दिन में दो बार इसे लगायें।

8 – एक्जिमा क्रीम :

एक्जिमा के असर को कम करने के लिए ज़रूरी नहीं कि आप बाज़ार से ही क्रीम खरीदें बल्कि आप घर पर भी ऐसी क्रीम बना सकते हैं। यह क्रीम खासतौर पर बच्चों के लिए बहुत असरदार है।

इसे बनाने के लिए डबल बॉयलर लें और उसमें ¼ कप नारियल तेल और इतनी ही मात्रा में शी बटर डालकर गर्म करें। जब ये पूरी तरह पिघल जाए तो आंच बंद कर दें। अब इस मिश्रण को ठंडा होने दें और जब मिश्रण का तापमान हल्का गुनगुना हो उस समय इसमें 15 बूँद लैवेंडर ऑयल और 5 बूँद टी ट्री ऑयल डालें। इस मिश्रण को जार में रखकर फ्रिज में रख दें। इसकी थोड़ी सी मात्रा रोजाना इन्फेक्शन वाली जगह पर दवाई की तरह लगायें। कुछ ही दिनों में आपको इसका असर दिखने लगेगा। बेहतरीन परिणाम के लिए इसमें आधा चम्मच शहद मिलाएं और रोजाना दिन में दो बार इस मिश्रण का इस्तेमाल करें।

9 – कोकोनट ऑयल और बॉडी बटर :

यह मिश्रण भी एक्जिमा से राहत दिलाने में असरदार है और आप इसे भी घर पर बना सकते हैं।

इसके लिए डबल बॉयलर लें और उसमें आधा कप नारियल तेल डालकर गर्म करें। जब यह पूरी तरह पिघल जाए तो आंच बंद कर दें। अब इसे ठंडा होने दें और उसके बाद इसमें 20-20 बूँदें लैवेंडर ऑयल, सेडरवुड ऑयल (cedarwood oil) और फ्रैंगकिन्सेन्स ऑयल (frankincense oil) डालें।

इसे अच्छे से हिलाकर मिला लें और कांच के जार में स्टोर करें। इसे अंधेरे और ठंडी जगह पर रखें, इस पर धूप ना पड़ने दें। अब इसकी थोड़ी सी मात्रा एक्जिमा वाली जगह पर लगायें। आप रोजाना दिन में 2 बार इसका इस्तेमाल करें।

10 – एक्जिमा माश्चराइजर :

ओटमील में ऐसे गुण होते हैं जिससे वो त्वचा की नमी भी बरकरार रखता है साथ ही इससे स्किन को ज़रूरी पोषक तत्व भी मिल जाते हैं। इसके इस्तेमाल से स्किन काफी लम्बे समय तक मुलायम और कोमल बनी रहती है।

इसे बनाने के लिए एक चौथाई कप ओट्स को ग्राइंड कर लें। धीमी आंच पर ¾ कप नारियल तेल को गर्म करके पिघलाएं और उसमें लैवेंडर ऑयल और ग्राइंड किये हुए ओट्स मिला दें। इन सबको अच्छे से मिलाने के बाद इसमें एक चम्मच ऑलिव ऑयल डालें। जब सब कुछ एक दूसरे में अच्छी तरह घुल जायें तो आंच बंद कर दें और मिश्रण को कांच के जार में स्टोर कर लें। यह मिश्रण ठंडा होने पर कठोर हो जाता है। आप रोजाना इसे इन्फेक्शन वाली जगह पर माश्चराइजर की तरह लगायें।

Share.

About Author

Comments are closed.