आपका बॉडी शेप खोलता है आपकी सेहत का राज…

0

किसी का बॉडी शेप देखकर ही आप व्यक्ति को होने वाली बीमारियों के बारे में बता सकते हैं.

लाइफस्टाइल और डाइट अलग-अलग होने की वजह से इंसान का बॉडी शेप भी अलग-अलग होता है. इसका आपके स्वास्थ्य पर भी बहुत असर पड़ता है. किसी का बॉडी शेप देखकर ही आप उसकी फिटनेस का अंदाजा लगा सकते हैं. आप ये भी बता सकेंगे कि आने वाले समय में उस व्यक्ति को कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं. आमतौर पर बॉडी शेप्स को 4 भागों में बांटा गया है. इसे मेंटेन रखने के लिए आपको कुछ एक्सरसाइज करना जरूरी होती हैं, जिनसे आप स्वस्थ्य रह सकते हैं. तो आइए हम आपको बॉडी शेप्स और उन्हें सही रखने के लिए कुछ जरूरी डेली वर्कआउट्स के बारे में बताते हैं-

एप्पल शेप

अगर आपके शरीर के बीच यानि पेट और कमर के आसपास बहुत ज्यादा फैट है, तो आपके शरीर का आकार सेब के आकार जैसा दिखता है. एप्पल बॉडी शेप वालों के कंधे और सीना, कमर की तुलना में कुछ चौड़ा होता है.

बीमारी: एप्पल बॉडी शेप वालों के ऊपरी हिस्से में एक्स्ट्राफैट जमा होने से ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारी होने का खतरा रहता है.

वर्कआउट: इसे सही आकार में लाने के लिए आपको पूरे शरीर से फैट कम करना होता है. ऐसे में प्लैंक हल्के वजन के साथ स्क्वाट ,लंज, बेंट ओवर रो, और बाइसेप्स कर्ल करना अच्छा रहेगा. सभी एक्सरसाइज के कम से कम 10 सेट करें.

पियर्स शेप

मोटापे के शिकार लोगों में ज्यादातर ये बॉडी शेप देखने को मिलता है. इसमें कमर का हिस्सा काफी चौड़ा होता है. उनके शरीर की बनावट नाशपाती की तरह दिखती है.

बीमारी: पियर्स शेप वाले लोगों के पैरों पर वजन की वजह से अतिरिक्त दबाव रहता है. ऐसे में इन लोगों को जोड़ों में दर्द की समस्या हो जाती है.

वर्कआउट: पियर्स शेप से छुटकारा पाने के लिए आपको लोअर बॉडी एक्सरसाइज करने चाहिए. इसके लिए अपनी क्षमतानुसार वजन लेकर स्क्वाट और लंज के सेट करें. इसके अलावा संतुलन बनाने के लिए आपको अपर बॉडी वर्कआउट के लिए वजन बढ़ाना चाहिए.

आवरग्लास शेप 

इस बॉडी टाइप वाले लोगों के कंधे और शरीर का निचला हिस्सा चौड़ा होता है. कमर का हिस्सा इनकी तुलना में पतला होता है. इस तरह के शरीर बनावट रेतघड़ी के जैसी दिखती है.

बीमारी: एप्पल बॉडी के शेप की तरह ही इन लोगों के ऊपरी हिस्से में फैट जमा होता है. इस वजह से इन्हें ब्लड प्रेशर, डायबिटीज और दिल की बीमारियां होने का खतरा रहता है.

वर्कआउट: इस शेप वाले लोगों को बराबरी से अपर और लोअर बॉडी एक्सरसाइज करना चाहिए. इसमें डेडलिफ्ट, बेंचप्रेस, लेग प्रेस, स्क्वाट और लंज शामिल हैं. इन एक्सरसाइज को निश्चित समय अंतराल के साथ बराबर सेट लगाना चाहिए.

इनवर्टड ट्राइएंगल शेप 

इस बॉडी शेप वालों का सीना और कंधे वाला हिस्सा चौड़ा और नीचे हिस्से की ओर आते-आते पतला होता जाता है. इन लोगों का शेप उल्टे त्रिभुज की तरह होता है.

बीमारी: इन्वर्टड ट्राइएंगल शेप वाले लोगों के निचले हिस्स में फैट कम होता है. इस वजह से इन्हें बीमारियां होने का खतरा कम होता है.

वर्कआउट: रेगुलर एक्सरसाइज और साधारण योग करने से ये लोग स्वस्थ्य रह सकते हैं.

Share.

About Author

Leave A Reply