क्या आप जानते हैं, पोर्न देखने के होते है इतने बुरे असर

0

आज कल हर किसी को चाहे वह युवा और या बालक पोर्न फिंल्मो की लत लगी हुई है। अपने आनंद की पूर्ति के लिए आसानी से पोर्न फिल्मों का सहारा ले लेता है। अपनी जिन्दगी में हर कोई एक न एक दिन पोर्न फिल्स जरूर देखता है। आजकल भारत में बच्चों और युवाओं द्वारा पोर्न फिल्में देखने का क्रेज इतना बढ़ता जा रहा है कि जिसका अंदाजा इन्हीं बातों से लगाया जा सकता है। यदि आप पोर्न फिल्मों के शोकीन हैं तो आप मुसीबत में पड़ सकते हैं। क्योंकि ज्यादा अश्लील फिल्में देखने से आपके स्वास्थ्य और सेक्स जीवन पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है। जानिये इन संकेतों के बारे में जो आपके लिए समझना बेहद ही जरूरी है…

लिंग में तनाव की कमी :

अक्सर कई पुरूष अश्लील फिल्में देखकर हस्थमैथुन करने लग जाते हैं और अपनी सेक्स संतुष्टि को पूरा कर लेते हैं। शायद वह ये नहीं जानते हैं कि आगे चलकर इसका सीधा असर उनके लिंग में तनाव की कमी की समस्या को पैदा कर सकता है।

असंतुष्टि की भावना :

अधिकतर लोग अश्लील फिल्में देखते हैं और अपने पार्टनर से भी उसी तरह से सेक्स करने की चाह रखते हैं जैसे कि पोर्न फिल्मों में दिखाया जाता है, पर वास्तविक जीवन में ऐसा नहीं हो पाता है। क्योंकि पोर्न फिल्मों को खास बनाने के लिए ज्यादा भड़काऊ और आकर्षक बनाया जाता है लेकिन उस जैसा सेक्स न होने पर उनके मन में असंतुष्टि की भावना घर कर जाती है और ऐसे में वह अपने पार्टनर के प्रति असंतुष्टि का अहसास करने लगते हैं और चिड़चिड़े हो जाते हैं।

दिमाग का सिकुड़ना :

शोध के मुताबिक जो लोग ज्यादा अश्लील फिल्में देखने के आदि होते हैं, उनका दिमाग सिकुड़ जाता है और उनमें यौन संबंध के लिए संवेदना भी कम होने लगती हैं। इतना ही नहीं रोज़ाना पोर्न की लत भी शरीर को नुकसान पहुंचा सकती है।

व्यवहार में बदलाव

सर्वे के अनुसार ज्यादातर मामलों में पोर्न फिल्में देखने वालों का उनके व्यवहार पर भी बुरा असर पड़ता है। चूंकि फिल्मों में दिखाई गये दृश्य आपके दिमाग पर हावी हो जाते हैं जिससे आप हर तरीके से लोगों के साथ यौन संबंध बनाने का प्रयत्न करने लगते हैं। यहां तक कि आपके हावभाव और बातों से भी अश्लीलता जाहिर होने लगती है। जो आपके व्यवहार पर बुरा असर डालती है।

जल्दबाजी करना :

पोर्न देखने वाले पुरूष फोरप्ले को नजरअंदाज कर देते हैं क्योंकि चुंबन एक बहुत ही धीमी गति से करने वाली प्रक्रिया होती है। लेकिन पुरूष पोर्न फिल्मों से उत्तेजित होकर सेक्स में जल्दबाजी करने लगते हैं और अलग अलग तरह के सेक्स पॉजीशन करने की कोशिश करते हैं। फोरप्ले के दौरान पार्टनर को काफी आनंद आता है और उनमें करीबीपन का अहसास भी होता है। ऐसे में फोरप्ले के अभाव में पार्टनर में अलगाव की भावना पैदा हो जाती है।

मस्तिष्क पर प्रभाव :

पोर्न देखने का सबसे बड़ा नुकसान हमारे दिमाग के विकास पर प्रभाव पड़ता है और इससे मानसिक तनाव की समस्या पैदा हो जाती है। जिसका उनकी जीवन शैली पर भी इसका नकारात्मक असर पड़ने लगता है।

अवैध संबंध :

शोध के मुताबिक अवैध संबंध के पीछे का मुख्य कारण पोर्न फिल्म का देखना भी है। पोर्न फिल्म की लत के चलते लोग अवैध संबंध बनाने से भी नहीं चूकते हैं जो उनके वैवाहिक जीवन के लिए बिल्कुल भी सही नहीं है। यहां तक कि शारीरिक रूप से अवैध संबंध बनाना भी समाज की नज़र में सही नहीं माना जाता है।

लव हार्मोन्स में कमी :

‘ऑक्सीटोसिन’ इंसान के शरीर में पाया जाने वाला लव हार्मोन होता है। यह हार्मोन स्त्री-पुरूष के रिश्ते की डोल को मजबूत बनाता है लेकिन अश्लील फिल्मों की लत के कारण लव हार्मोन में कमी आ जाती है जिस कारण रिश्ते खराब भी हो सकते हैं।

कामोत्तेजना पर बुरा असर :

कुछ लोग उत्तेजित होने के लिए पोर्न का सहारा लेने लगते है। अक्सर बहुत से लोग पोर्न फिल्म देखने के दौरान उत्तेजित होकर मास्टरबेसन करने लगते हैं। परिणामस्वरूप व्यक्ति प्राकृतिक रूप से यौन क्रिया बनाने में असफल हो जाता है। जो आगे के लिए गंभीर समस्या खड़ी कर सकती है।

Share.

About Author

Leave A Reply