जानिए रिश्ते टूटने की खास वजह

0

हम सभी जानते हैं कि किसी भी रिश्ते को लम्बे समय तक रखने के लिए उसमे विश्वास का होना बहुत जरूरी होता है। जितना विश्वास हम एक दूसरे पर करेंगे उतना ही हम रिश्तों को मजबूत बनाये रख पाएंगे। जब एक लड़का और एक लड़की अक्सर यही सोचकर विवाह के बंधन में बंधते हैं कि वह एकदूसरे के प्रति उनकी आदर-सम्मान वे हर स्थिति में पूरा सहयोग करेंगे लेकिन समय के साथ-साथ हालात बदल जाते हैं और उसी के अनुसार हम भी बदलते हैं और हमारे संबंध भी।

देखा जाये तो परिस्थितियों के अनुरूप संबंध कभी स्थिर रह ही नहीं सकते। बदलाव को समझने पर ही हम रिश्तों को बनाए रख पाते हैं। अगर यह समझ नहीं आती है तो रिश्ते समाप्त होने की कगार पर पहुंच जाते हैं। वजह चाहे कुछ भी रही हो, जब प्यार का रिश्ता टूटता है तो दर्द का होना लाजमी है। समय के साथ साथ इंसान में बदलाव होना स्वभाविक है। यदि स्थिति के मुताबिक अगर बदलाव को समझ लिया जाएं तो हम अपने रिश्तों को बनाए रखने में सफल हो सकते है। और यदि हम स्थिति को समझने में नाकाम है तो यकीकनरिश्ते बिखर जाते हैं। आइये जानते है कि किन कारणों से रिश्ता टूट जाते हैं।

गलत व्यवहार :

हर रिश्ते में व्यवहार एक बड़ी वजह होती है। जी हां, यदि कपल्स के बीच अच्छा व्यवहार नहीं है तो भी रिश्ता कभी आगे नहीं बढ़ सकता है।

धोखा देना :

बहुत से मामलों में कई लोग धोखेबाज होते हैं। इसीलिए वह अपने साथियो तथा रिश्तों में भी धोका देते हैं इसीलिए ज्यादातर रिश्तो के टूटने का कारण यही होता है जिन लोगों में धोकेबाज़ी कूट-कूट कर भरी होती है वह कभी भी अपने रिश्ते को आगे नहीं बढ़ा सकते हैं।

आपसी झगड़े :

अधिकतर मामलों में आपसी झगडे भी रिश्ते टूटने का मुख्य कारण होते है। यही छोटे-मोटे झगड़े भी रिश्तों के बीच दरार डाल देते हैं जिससे वैवाहिक जीवन पनप नहीं पाता है। इसीलिए रिश्तों को तोड़ने में झगडे की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

अहम की भावना :

शादी एक ऐसा रिश्ता है जो दो दिलों को एक बंधन में बांधता है और इसके लिए जरूरी हो जाता है कि एक दूसरे की भावनाओं की कद्र करना और समझना। लेकिन यदि जीवनसाथी को यह लगने लगे कि मैं ही सब कुछ हूं मेरे ही दम पर ही गृहस्थी टिकी हुई है तो समझ लो कि उसके अन्दर अहम् की भावना ने जन्म ले लिया है। यहीं अहम् की भावना रिश्तों को बर्बादी की ओर धकेल देती है।

प्यार में धोखा :

आज कल बदलते समय के साथ शादी किसी ओर से और प्यार किसी और से होना एक फैशन सा बन गया है। आमतौर पर देखने को मिलता है कि कई लोग तो अपने पार्टनर के पीठ पीछे अन्य के साथ गैर संबंध बनाने लगते हैं। ऐसा नहीं कि सिर्फ़ लड़के ही ऐसा करते हैं बल्कि लड़कियां भी ऐसा करती हैं। शादी के बाद भी गैर तरीके से संबंध भी रिश्तों में खटास पैदा कर सकता है। एक समय ऐसा भी आता है जब नौबत तलाक तक आ जाती है।

मानसिक तनाव :

आज की भागदौड़ भरी जिन्दगी और कई तरह की समस्याऐं भी तनाव का कारण बनती हैं। मानसिक तनाव के चलते हम अपने व्यवहार पर काबू नहीं रख पाते हैं और बात बेबात उन पर बरस पड़ते हैं। नतीजन दोनों के बीच दूरियां बढ़ने लगती हैं।

भरोसा टूटना :

वैवाहिक जीवन भरोसे की नींव पर टीका होता हैं जब हम किसी के ऊपर आँख बंद करके ट्रस्ट करने लगते हैं लेकिन जब वही हमारा भरोसा तोड़ देता है तो हमारा उनसे रिश्ता लगभग टूट ही जाता है।

शारीरिक संबंध :

यौन संबंध के दौरान कपल्स के बीच एक को सेक्स की इच्छा हो रही हो और दूसरा सेक्स से इंकार कर रहा है तो यही वजह दोनों के बीच कड़वाहट ला सकती है।

खर्च में कटौती :

शादी के बाद शुरूआती दिनों में जब पार्टनर कुछ डिमांड करता है तो सहज ही उस डिमांड को पूरा कर दिया जाता है लेकिन जैसे समय बीतता है खर्चे भी उसी के हिसाब से बढ़ने लग जाते हैं जिस कारण वह अपने पार्टनर की डिमांड को पूरा नहीं कर पाता है जिससे पार्टनर को लगता है कि आपके लिए उनके दिल में कोई जगह नहीं है जिससे आगे का रिश्ता निभाना भी उनके लिए भारी पड़ने लगता है।

जिद्दी होना :

आमतौर पर कुछ लोगों में जिद्दीपन की आदत होती है जो की हर जगह अपनी ही चलाते हैं। जो की दूसरे पार्टनर को पसंद नहीं होता है जिससे दोनों का एक साथ एडजस्ट रह पाना मुश्किल हो जाता है। इसीलिए उनके रिश्ते भी टूटने लगते है ज्यादातर शादीशुदा रिश्ते टूटने का यह मुख्य कारण होता है।

Share.

About Author

Leave A Reply