शरीर में होने वाले इन 9 दर्दों को भूलकर भी ना करें अनदेखी

0

हम सभी नियमित शरीर में किसी न किसी तरह के दर्द का अनुभव करते हैं। कभी पैर की उंगलियों में दर्द होता है तो कभी कार का दरवाजा बंद करते समय उंगलियों में अकड़न आ जाती है और दर्द होने लगता है।

पाचन क्रिया ठीक न होने पर पेट में दर्द, तनाव से सिर दर्द और कोई विशेष खेल खेलने पर रीढ़ में दर्द शुरू हो जाता है। अगर दर्द न हो तो हमें शरीर के अंदरूनी या बाहरी हिस्सों में दर्द का जल्दी पता ही न चले। आइये जानते हैं कि नियमित और अक्सर होने वाले किन तरह के दर्द की अनदेखी नहीं करनी चाहिए।

1. कमर दर्द

कमर दर्द अमूनन हर व्यक्ति को होता है। इसके पीछे कई कारण होते हैं। कमर की मांसपेशियां शरीर के ऊपर और नीचे के हिस्सों को सहारा देने का काम करती हैं इसकी वजह से इसमें बहुत तनाव हो जाता है। इसलिए यदि आपको लगातार कमर में दर्द या पैर और उंगलियों में सनसनाहट होती हो तो यह रीढ़ की हड्डी में समस्या होने का संकेत है।

2. जबड़े में दर्द

आमतौर पर जबड़ों में जल्दी दर्द नहीं होता है। लेकिन जबड़ों में दर्द होने का कारण तनाव होता है। तनाव होने से जबड़े की मांसपेशियां टाइट हो जाती ह और जबड़ो के अधिक देर तक टाइट रहने से इसमें दर्द होने लगता है और इसकी वजह से सीने में भी दर्द होता है जोकि हृदय रोगों का लक्षण है।

3. मासिक धर्म में दर्द

गर्भाशय की दीवारों में सूजन आने के कारण मासिक धर्म के दौरान अक्सर महिलाओं को दर्द सहन करना पड़ता है। इस सामान्य दर्द को एंटी इंफ्लैमेटरी दवाओं से ठीक किया जाता है। लेकिन अगर आपको पीरिएड के दौरान तेज दर्द होता हो और दवा लेने पर भी ठीक न होता हो तो यह एसटीडी या गर्भाशय के कैंसर का संकेत है।

4. तेज सिर दर्द

हर व्यक्ति सामान्य रूप से सिर दर्द का अनुभव करता है। लेकिन सिर दर्द का कारण तनाव से लेकर कैंसर भी हो सकता है। अगर आपके सिर में लगातार दर्द होता है तो यह ब्रेन ट्यूमर भी हो सकता है। लापरवाही किए बिना इसकी जांच कराकर इलाज कराना चाहिए।

5. पेट के निचले हिस्से में दर्द

पाचन क्रिया ठीक न होने पर एसिडिटी और कब्ज के कारण पेट में दर्द होना आम बात है। लेकिन आपको पेट के निचले हिस्से में अक्सर दर्द उठता है तो यह अपेंडिक्टिस का लक्षण है। जांच करना पर ही इस बीमारी का पता चलता है और यदि यह बीमारी हो तो जल्दी ही इलाज कराना चाहिए।

6. पैरों में दर्द

यदि आपको बहुत ज्यादा चलना पड़ता है तो पैरों में दर्द होना सामान्य बात है। लेकिन यदि आपके पैरों में असामान्य तरह का दर्द होता हो और पैरों एवं तलवों में सुन्नता महसूस होती हो तो यह डायबिटीज के लभण हैं।

7. पीठ में दर्द

यदि आपको किसी तरह की चोट न लगी हो फिर भी पीठ के मध्य में लगातार दर्द होता है तो यह किडनी में इंफेक्शन होने का संकेत है। इसके अलावा यदि आपको अक्सर बुखार आ जाता है तो किडनी में इंफेक्शन का यह संकेत अधिक खतरनाक हो सकता है। इसकी अनदेखी न करें।

8. कॉफ मसल्स में दर्द

यदि अधिक न चलने के बावजूद भी आपको पिंडलियों की मांसपेशियों में लगातार दर्द होता होतो हो तो आपको तुरंत जांच करानी चाहिए क्योंकि यह कैल्शियम की कमी के कारण होता है और ऑस्टियोपोरोसिस हो सकता है। कैल्शियम की कमी आमतौर पर कॉफ मसल्स को प्रभावित करती है, ऐसा रिसर्च में पाया गया है।

9. वृषण में दर्द

यदि पुरुषों के जननांगों के वृषण में या आसपास तेज दर्द होता है या पुरुषों को विशेषरूप से सेक्स या मस्टरबेशन करते समय वृषण में दर्द होता हो तो आपको तुरंत जांच कराना चाहिए। क्योंकि यह सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज अर्थात एसटीडी और वृषण का कैंसर हो सकता है। वृषण में दर्द होना इन्हीं बीमारियों के संकेत होते हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply