वाइटहेड्स से हैं परेशान है तो अपनाएं ये टिप्स

0

कई बार अचानक से चेहरे पर सफेद रंग के दाने दिखने लगते हैं और चेहरा खुरदुरा और भद्दा नजर आने लगता है। इन दानों को ऑयल बम्प या वाइटहेड्स कहते हैं। जब चेहरे के रोमछिद्र किसी कारणवश बंद हो जाते हैं, तो चेहरे से निकलने वाले अतिरिक्त तेल के बाहर न निकल पाने की वजह से नाक और उसके आस-पास, ठुड्डी व माथे पर दाने निकल आते हैं। कई बार ये दाने गालों और सीने पर भी हो जाते हैं। इन तैलीय दानों की वजह से चेहरे की रौनक खत्म हो जाती है। कुछ घरेलू नुस्खे वाइटहेड्स से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं :

लाभदायक है चंदन और गुलाब जल

चंदन पाउडर और गुलाब जल न सिर्फ त्वचा को ठंडक देते हैं, बल्कि उसे अच्छी तरह से साफ भी करते हैं। चंदन पाउडर में गुलाब जल मिलाकर पेस्ट बना लें और उसे चेहरे पर लगाएं। सूख जाने के बाद ठंडे पानी से धो लें। यह पेस्ट त्वचा से अतिरिक्त तेल को सोखकर वाइटहेड्स की समस्या को जड़ से खत्म करता है।

शहद है बेहतरीन

थोड़ा-सा शहद लेकर उसे वाइटहेड्स के ऊपर हल्के हाथों से मालिश करते हुए लगाएं। एक घंटे बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें। नियमित तौर पर शहद का इस्तेमाल करने से बंद रोमछिद्र खुल जाएंगे और आपकी त्वचा पर अचानक से हो जाने वाली तैलीय गांठें या दाने खत्म हो जाएंगे। शहद में प्राकृतिक तौर पर नमक होता है, जो त्वचा में नमी को बरकरार रखता है। शहद त्वचा में कसावट लाने के साथ उसे मुलायम भी बनाता है।

कमाल का है अरंडी का तेल

अरंडी के तेल (कैस्टर ऑयल) में प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं। अरंडी के तेल में मौजूद एंटी बैक्टीरियल तत्व त्वचा से अतिरिक्त तेल को सोखकर तैलीय गांठों को बनने से रोकते हैं। कैस्टर ऑयल को गुनगुना करके उससे चेहरे की मालिश करें। थोड़ी देर बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें। अगर कैस्टर ऑयल ज्यादा चिपचिपा लगता है तो आप इसमें थोड़ा-सा ऑलिव ऑयल भी मिला सकती हैं।

असरदार है एलोवेरा जेल

एलोवेरा जेल में पाया जाने वाला एंटी बैक्टीरियल और एंटी ऑक्सिडेंट तत्व त्वचा से जुड़ी किसी भी बीमारी को ठीक करने में असरदार होता है। इसके इस्तेमाल से न केवल त्वचा संबंधी रोग खत्म होते हैं, बल्कि त्वचा चमकदार और मुलायम भी होती है। एलोवेरा जेल को व्हाइटहेड्स पर लगाकर हल्के हाथों से मालिश करें। रात भर के लिए छोड़ दें और सुबह ठंडे पानी से चेहरा धो लें। एक माह तक नियमित इस्तेमाल से वाइटहेड्स की समस्या खत्म हो जाएगी।

आलू नहीं है किसी से कम

अगर आप अपनी त्वचा की रंगत निखारना चाहती हैं और वाइटहेड्स से छुटकारा पाना चाहती हैं तो नियमित रूप से चेहरे पर आलू का इस्तेमाल करें। आलू को कद्दूकस कर लें और इससे धीरे-धीरे त्वचा की मालिश करें। कुछ देर बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें। कच्चे आलू का पेस्ट बनाकर उसके रस को भी आप चेहरे पर लगा सकती हैं। सूख जाने के बाद चेहरा ठंडे पानी से धो लें।

टी ट्री ऑयल का कमाल

वाइटहेड्स के उपचार के लिए टी ट्री तेल का इस्तेमाल करें। इसके इस्तेमाल से न केवल वाइटहेड्स की समस्या से निजात मिलती है, बल्कि मृत त्वचा से भी छुटकारा मिलता है। इससे रोमछिद्र भी खुल जाते हैं। थोड़ा-सा टी ट्री ऑयल लें और इसमें रुई डुबोकर वाइटहेड्स पर लगाएं। 15 से 20 मिनट बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें। आप इस तेल को अपनी मॉइस्चराइजिंग क्रीम में भी मिला सकती हैं। यह त्वचा को नमी और पोषण भी देता है।

कारगर हैं मेथी की पत्तियां

मेथी की पत्तियों को धोकर अच्छी तरह से मैश करें और इसके रस को निचोड़ लें। अब इस रस को रुई से चेहरे पर लगाएं। आधे घंटे बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें। मेथी की पत्तियों को दूसरी तरह से भी इस्तेमाल किया जा सकता है। दही और मेथी की पत्तियों को ग्राइंडर में डालकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को चेहरे के प्रभावित हिस्से में लगाएं और सूखने के लिए छोड़ दें। जब पेस्ट सूख जाए तो चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।

इसके अलावा अपने ब्यूटी रूटीन में भी बदलाव लाएं। मेकअप लगाकर कभी न सोएं। सप्ताह में कम-से-कम एक बार स्क्रब का इस्तेमाल करें। ऐसा करने से रोमछिद्र बंद नहीं होंगे और वाइटहेड्स की समस्या जड़ से खत्म हो जाएगी। इसके अलावा अपनी डाइट में हरी सब्जियों और फलों को भरपूर मात्रा में शामिल करें।

क्या हैं कारण

  • रोमछिद्र बंद हो जाना
  • त्वचा से अतिरिक्त तेल निकलना
  • आनुवंशिक कारण
  • मृत त्वचा की परत इकट्ठा होना
  • शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव
  • धूप में ज्यादा देर तक रहना
  • पीरियड और मेनोपॉज
  • गर्भावस्था
  • गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन
Share.

About Author

Leave A Reply